whatsapp ka malik kaun hai –  व्हाट्सएप किस देश की कंपनी है

whatsapp ka malik kaun hai : आजकल के समय में, व्हाट्सएप ने गुड मॉर्निंग और गुड नाइट की फोटों के साथ व्यापकता प्राप्त की है और इसके साथ ही व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी के नामक फेक मैसेज वाले संदेशों ने इसे एक लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा बना दिया है। आप भी बेशक व्हाट्सएप का उपयोग करते होंगे, क्योंकि व्हाट्सएप एक ऐसा मंच है जिसमें पुरे विश्वभर में 500 करोड़ से अधिक उपयोगकर्ता हैं। इस ऐप की एंड्रॉयड और आईओएस एप्लिकेशन को 500 करोड़ से अधिक व्यक्तिगतों ने डाउनलोड किया है, जो इसकी लोकप्रियता का प्रमाण है।

व्हाट्सएप एक सोशल मीडिया ऐप्लिकेशन है जिसमें आप मैसेज, फोटो, वीडियो आदि भेज सकते हैं और अपनी स्थिति (स्टेटस) को अपडेट कर सकते हैं। इसके अलावा, अब आप व्हाट्सएप के माध्यम से पैसे भी भेज सकते हैं। यह एक साथ में कई सुविधाएँ प्रदान करता है। आप इसके माध्यम से ग्रुप बना सकते हैं ताकि आप लोगों के साथ जुड़ सकें, वीडियो कॉल कर सकते हैं और ब्रॉडकास्टिंग भी कर सकते हैं।

व्हाट्सएप के मालिक का नाम जानकारी के मेरे कटौती तक (सितंबर 2021) जानकारी के अनुसार, जाना जाता है कि ब्रायन एक्टन और जैन कौम WhatsApp के संस्थापक हैं, जिन्होंने इसे 2009 में स्थापित किया था। हालांकि, 2014 में फेसबुक ने व्हाट्सएप को खरीद लिया था।

व्हाट्सएप का चलन आज के समय में वाकई महत्वपूर्ण है, और यह एक बहुत ही लोकप्रिय मैसेंजिंग ऐप है, जिसका उपयोग लोग व्यक्तिगत और व्यापारिक उद्देश्यों के लिए करते हैं। इसके साथ ही, WhatsApp ने व्यापारिक उपयोगकर्ताओं के लिए ‘WhatsApp Business’ ऐप भी लॉन्च किया है, जिसका उद्देश्य व्यवसायों को उनके ग्राहकों के साथ संवाद और संवादना सुविधाएँ प्रदान करना है।

व्हाट्सएप ने प्राइवेसी के मामले में भी महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। यहाँ तक कि उन्होंने एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन का प्रयोग किया है, जिससे आपके भेजे गए संदेशों की सुरक्षा सुनिश्चित होती है। यह इसके मतलब से है कि केवल संदेश के प्राप्तकर्ता ही उनका पठन कर सकते हैं, किसी तीसरे पक्ष को नहीं।

WhatsApp एक मैसेजिंग ऐप है जिसकी शुरुआत एक एप्लिकेशन के रूप में हुई थी, और यह अब विभिन्न प्लेटफ़ॉर्म्स पर उपलब्ध है। यह व्यक्तिगत और व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए एक सुरक्षित माध्यम है जो प्रॉडक्ट्स के कैटलॉग तैयार करने और ग्राहकों को सुविधाजनक तरीके से संदेश भेजने का अवसर प्रदान करता है।

whatsapp ka malik kaun hai

व्हाट्सएप कंपनी के मालिक ब्रायन एक्टन और जैन कॉम थे, लेकिन 2014 में फेसबुक ने व्हाट्सएप को 19 बिलियन डॉलर में खरीद लिया था। अब व्हाट्सएप, मार्क जुकरबर्ग की मेटा कंपनी के तहत है, जिसके पास फेसबुक और इंस्टाग्राम भी हैं।

फेसबुक कंपनी ने वाकई अपना नाम मेटा में बदल लिया है, जिससे WhatsApp के सभी अधिकार मेटा कंपनी के पास होते हैं। यह एक महत्वपूर्ण जानकारी है। दुनिया की जनसंख्या के लगभग 25% लोग व्हाट्सएप का उपयोग करते हैं और इस एप्लिकेशन पर विज्ञापन देखने की कोई आवश्यकता नहीं होती, इसे पूरी तरह से मुफ्त में उपयोग किया जा सकता है।

WhatsApp कौन से देश का है

व्हाट्सएप की शुरुआत ब्रायन एक्टन और जैन कॉम के द्वारा की गई थी और उनकी कंपनी अमेरिका में आधारित थी। लेकिन फेसबुक ने व्हाट्सएप को खरीद लिया और उसके सभी मालिकाना हक फेसबुक के पास चले गए।

फेसबुक की मेटा नामकंपनी का मुख्यालय अमेरिका में ही है और उनका प्रमुख एग्जिक्यूटिव मार्क जुकरबर्ग भी अमेरिका के निवासी हैं, इसलिए व्हाट्सएप और अन्य मेटा के उत्पादों का कारोबार भी अमेरिका में ही चलता है।

WhatsApp की स्थापना कब और कहां हुई

WhatsApp की उद्गम कहानी ऐसी है कि यह साल 2009 में Brian Acton और Jan Koum ने मिलकर लिखी गई थी। ये दोनों युवक पहले याहू कंपनी में साथ मिलकर काम करते थे और उनकी यह साझेदारी व्हाट्सएप को बनाने में महत्वपूर्ण साबित हुई। उन्होंने याहू कंपनी को छोड़ने के बाद फेसबुक और ट्विटर में नौकरी के लिए आवेदन किया था, लेकिन उन्हें उन नौकरियों के लिए रिजेक्ट कर दिया गया था।

यह वाकई आश्चर्यजनक है कि उन्हें रिजेक्ट होने के लगभग 5 साल बाद ही फेसबुक ने उनके एप्लिकेशन के लिए 19 बिलियन डॉलर अदा किए थे।

Jan Koum की कहानी भी बेहद प्रेरणादायक है। वे एक मिडिल क्लास परिवार से हैं और 1976 में यूक्रेन के एक छोटे से शहर में जन्मे थे। उनके पिता कांस्ट्रक्शन कंपनी में काम करते थे और उन्होंने स्कूल की पढ़ाई पूरी की जिसके बाद उन्होंने सन जोस् स्टेट यूनिवर्सिटी में अध्ययन किया।

Jan Koum के साथी Brian Acton भी मिडिल क्लास परिवार से थे और उनका जन्म अमेरिका के मिशिगन प्रांत में हुआ था। उन्होंने Lake Howell हाई स्कूल से अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी की और उसके बाद मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी में अध्ययन की पुरी की थी।

व्हाट्सएप की शुरुआत से जुड़ी कई कहानियां हैं, एक कहानी यह है कि Jan Koum का जिम जाने का शौक था, लेकिन वे जिम में होते समय अपने दोस्तों की कॉलों का उत्तर नहीं दे पाते थे। उनकी एप्लिकेशन डेवलपमेंट में अच्छा ज्ञान था, इसलिए उनके मन में एक विचार आया कि क्यों न एक ऐसी एप्लिकेशन बनाई जाए जो उनके स्थिति को स्थित कर सके कि उनका वर्तमान काम क्या है।

उन्होंने इस प्रेरणादायक विचार से WhatsApp नामक एप्लीकेशन विकसित की, हालांकि उस समय के वर्शन में WhatsApp आज की तरह पूरे तरह से मैसेजिंग सेवा नहीं थी। उस वर्शन में केवल स्टेटस पोस्ट करने का फ़ीचर था।

वास्तव में, “WhatsApp” नाम अंग्रेजी में “What’s Up” शब्द से आया है, जिसका हिंदी में मतलब “क्या हाल है” होता है। इसका मुख्य उद्देश्य शुरुआत में लोगों के बीच अपने हाल-चाल को साझा करने के लिए था।

जब धीरे-धीरे Brian Acton और Jan Koum को यह मालूम हुआ कि लोग इसे मैसेजिंग के रूप में भी प्रयोग कर रहे हैं, तो उन्होंने इसे मैसेजिंग सेवा की तरफ बढ़ाया। इससे लोग आसानी से कन्वर्सेशन कर सकने लगे और इससे व्यक्तिगत संवादों की स्वाधीनता मिली।

WhatsApp की शुरुआत कैसे हुई थी

व्हाट्सएप ने अपनी शुरुआत में एक समय के लिए लोगों से फीस लेने की कोशिश की थी, लेकिन बाद में इसे मुफ्त में प्रदान करने का फैसला किया गया था। हालांकि, व्हाट्सएप की शुरुआत में ही भी यह मुफ्त ही था।

व्हाट्सएप की आवाज काफी शीघ्र ही बढ़ी थी क्योंकि उस समय यह एकमात्र ऐप था जिसमें फ्री मैसेजिंग सुविधा उपलब्ध थी, और वहीं ब्लैकबेरी ऐप भी मैसेज भेजने की सुविधा देता था। इससे व्हाट्सएप को तेजी से पॉपुलरिटी मिली और लोग इसका अधिक प्रयोग करने लगे।

Jan Koum और Brian Acton ने व्हाट्सएप को सफलता की दिशा में अग्रसर करने के लिए विकसितकर्ताओं की टीम का गठन किया और उन्होंने इसे एक अद्वितीय मैसेजिंग सेवा बनाने के लिए प्रेरित किया। व्हाट्सएप की व्यक्तिगत संवाद सुविधा ने इसे और भी अधिक आकर्षक बनाया और यह बिना किसी विज्ञापन या मार्केटिंग के भी पॉपुलर हो गया।

WhatsApp Facts in Hindi

  • व्हाट्सएप के प्रारंभिक दिनों में, जब एक नया अकाउंट व्हाट्सएप पर बनाया जाता था, तो सबसे अधिक खर्च उस वेरिफिकेशन कोड के लिए होता था जो भेजा जाता था। इसका मतलब यह था कि व्हाट्सएप को चलाने के लिए जो खर्च आता था, उसमें से वेरिफिकेशन कोड के लिए किया जाने वाला खर्च सबसे अधिक था। यानी कि कंपनी के लिए व्हाट्सएप को सुचारू रूप से चलाने का खर्च बहुत कम था जबकि वेरिफिकेशन कोड के लिए उचित खर्च आवश्यक था।
  • व्हाट्सएप के दो संस्थापकों को फेसबुक कंपनी ने व्हाट्सएप की खरीदी के साथ ही नौकरी भी प्रदान की थी, लेकिन उन्होंने बाद में अपनी नौकरी छोड़ दी। उन्होंने यह कहकर छोड़ा कि फेसबुक कंपनी व्हाट्सएप को एक अलग दिशा में ले जा रही है, जिसे वे पसंद नहीं कर रहे थे।
  • रोज़ाना व्हाट्सएप पर 100 बिलियन से अधिक संदेश भेजे जाते हैं।
  • मार्च 2020 के कोरोना महामारी के समय, WhatsApp के उपयोगकर्ताओं में 40% तक की वृद्धि दर्ज की गई थी। इसका मुख्य कारण था कि लॉकडाउन के कारण स्कूलों ने ऑनलाइन शिक्षा का आयोजन किया था, जिसके परिणामस्वरूप WhatsApp पर बच्चों का अधिक उपयोग होने लगा था। इसके परिणामस्वरूप, व्हाट्सएप पर छोटे बच्चों का भी बहुत अधिक प्रयोग होने लगा था।
  • यह सत्य है कि इंटरनेट पर कई वेबसाइट होती हैं जो अलग-अलग कैटेगरी में लड़कियों के व्हाट्सएप नंबर देने और विभिन्न ग्रुप प्रदान करने का दावा करती हैं।

FAQs

WhatsApp की शुरुआत कब हुई थी?

WhatsApp की शुरुआत ब्रायन एक्टन और जैन कोम द्वारा सन् 2009 में की गई थी। दोनों ही ब्रायन एक्टन और जैन कोम अमेरिकी नागरिक हैं और उन्होंने अपने अमेरिकी आवास में ही WhatsApp की उत्पत्ति की थी।

WhatsApp के CEO कौन हैं?

वर्तमान में WhatsApp के चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) विल कैथकार्ट हैं, जिन्होंने मार्च 2019 से अपने कार्यकाल की शुरुआत की है। इनके प्रबंधन में, WhatsApp ने उपलब्ध समय में कामयाबी प्राप्त की है और सफलता हासिल की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *