Bigg Boss OTT 2: ‘मुझे रूम में बंद कर दिया, मैं कांप रही थी…’, मनीषा रानी ने बताया जिंदगी का बहुत डरावना अनुभव

सोशल मीडिया इन्फ्लुंसर के रूप में मनीषा रानी को Bigg Boss OTT 2 में माना जा रहा है, जिससे उन्हें व्यापक पहचान मिली थी। वे आपसे शेयर भी कर सकती हैं कि कैसे उन्होंने रियलिटी शो में पहुंचने तक कठिनाइयों का सामना किया और कैसे उन्होंने अपनी मेहनत, समर्पण और साहस से अपने लक्ष्य को पूरा किया।

मनीषा रानी ने अपने स्ट्रगल के दिनों को याद करते हुए बताया कि उन्होंने अपने पैसों के लिए एक बार एक बहुत बुरा अनुभव किया था जिसे वह जिंदगी भर नहीं भूलेंगी। यह अनुभव उनके लिए बहुत कठिन और चुनौतीपूर्ण था। हालांकि, उन्होंने इस अनुभव से सीख ली और इससे आगे बढ़ने का साहस किया।

Bigg Boss OTT 2: 'मुझे रूम में बंद कर दिया, मैं कांप रही थी...', मनीषा रानी ने बताया जिंदगी का बहुत डरावना अनुभव


मनीषा रानी स्ट्रगल के दिन : सोशल मीडिया इन्फ्लुंसर और Bigg Boss OTT 2 की पसंदीदा कंटेस्टेंट मनीषा रानी ने हाल ही में अपने स्ट्रगल के दिनों को याद किया है। उनका मजेदार जेस्चर लोगों को खूब पसंद आता है।

मनीषा रानी ने बिग बॉस में अपने साथी कंटेस्टेंट्स एल्विश यादव, अभिषेक मल्हान और आशिका भाटिया के साथ अपने स्ट्रगल के दिनों का एक्सपीरियंस शेयर किया। उन्होंने इस बारे में बताया कि जब वह कोलकाता में रहती थी, तो एक दिन उन्हें रूम खाली करने की धमकी मिल गई थी, क्योंकि उन्होंने अपने घर के किरायेदार को रेंट नहीं दिया था।

Bigg Boss OTT 2 : पैसों के लिए मनीषा रानी ने किया था ऐसा काम


मनीषा रानी ने बैंकग्राउंड में डांस करने के लिए बिहार जाना पड़ा, जो उन्हें अपने जीवन में पहले नहीं करना पड़ा था। इस अनुभव ने उन्हें कई तरह की चुनौतियों का सामना करने को मजबूर किया।और उसने कहा की –

"जहां हम गए, वह स्टेशन से करीब 15 किलोमीटर दूर था और वहां सिर्फ जंगल था। वहां पर एक झोपड़ी में डांसर वगैरह को रुकवाया हुआ था। मैं एक अच्छे घर से थी, तो मैं ऐसी जगह रहने के लिए असामान्य थी। बाथरूम में बोरा वाला पर्दा लगा हुआ था। वहां बहुत गंदा सीन था। नॉर्मल लोग वहां रहने की स्थिति में नहीं होते थे।"

Bigg Boss OTT 2 : थर-थर कांपने लगी थीं मनीषा रानी

मनीषा रानी ने अपने घर में ये बात किसी को नहीं बताई थी और सिर्फ उनके बॉयफ्रेंड को इस बारे में पता था। जब वह उस जगह से निकलने के लिए प्रयास करती थी, तो उन्होंने रोई-धोई भी, लेकिन वहां के लोग उनकी परेशानी को समझने में सक्षम नहीं थे और उन्हें मानने को तैयार नहीं थे।

"उस समय, एक गांव में ट्रैक्टर पर हम खड़े थे और नीचे बाराती थे। उन दृश्यों को देखकर मेरा खून उबलने लगा। जगह के लोग सभी लड़कियों के लिए इस्तेमाल होने वाले विशेष उपकरण पहन रहे थे, जबकि मैं वहां पर जींस और शर्ट पहनी हुई थी। हम डांस कर रहे थे, तभी एक लड़के ने मुझे गंदा साइन दिया। मुझे ये सब सहन नहीं हुआ और हमने उसे चप्पल दिखाया तो वह भड़क गया और मुझे नीचे उतारने के लिए कहने लगे।"

"उस समय मेरी हालत खराब हो गई थी। मैं रोने लगी थी और मेरा शरीर कांप रहा था। मेरे साथ वहां मौजूद लोगों ने मुझे पीछे बिठा दिया। रात के शो के समय वहां पर एक टैंट बना था जिसमें हम रह रहे थे और लड़के वहां हमें परेशान कर रहे थे। वहां खाने पीने की स्थिति बहुत मुश्किल हो गई थी।"

मनीषा रानी को जब कमरे में कर दिया गया था बंद

मनीषा रानी ने बताया कि उन्हें जहां डांस करने गई थीं, वहां उन्हें खाना सही से नहीं मिल रहा था। इससे वह बहुत परेशान हो गई थीं। वहां की भोजन व्यवस्था उन्हें संतुष्ट नहीं कर रही थी और खाने के विकल्प भी बहुत कम थे, जिससे उन्हें खाने में बहुत समस्या हो रही थी। इसके चलते वह वहां रहने में और भी कई मुश्किलाएं झेल रही थीं।

"मेरे सब्र का बांध टूट गया था और कुछ दिनों बाद, मैं वहां से जाना चाहती थी। मैं उस व्यक्ति से पैसे मांगने गई, लेकिन उसने मेरे अनुरोध को मना कर दिया। इससे हमारे बीच तनाव शुरू हो गया। फिर उसने मुझे एक कमरे में बंद कर दिया। हम चिल्लाने लगे, और जब हम रोने लगे तो उसने दरवाजा खोला, लेकिन एक पेपर में साइन करवाया, जिसमें लिखा था कि वे मुझे एक भी पैसा नहीं देंगे। थोड़ी बहस के बाद हम निकल गए।"
"जब मैं उस जगह से निकली तो मेरे पास फोन नहीं था, क्योंकि मैंने एक लड़के की मदद के लिए उसे दे दिया था। मैं बिना किसी संचार के साधन के, 5-8 किलोमीटर के जंगली मार्ग पर पैदल चल रही थी और लगातार रो रही थी। अपने बॉयफ्रेंड से मदद के लिए फोन करने के लिए मैं एक शख्स से फोन लेकर 500 रुपये मांगी।"

"कोलकाता पहुंचने पर, मेरा बॉयफ्रेंड मुझे पहचान नहीं पा रहा था। मेरी हालत बेहद खराब थी। मेट्रो में बैठते ही, मैं बेहोश हो गई थी।"

मनीषा रानी की कहानी सुनकर अभिषेक को भावुकता महसूस होती है। उन्होंने बताया कि उन्होंने वेटर के तौर पर भी काम किया, लेकिन उनके परिवार को इस बारे में जानकारी नहीं है। वे अपने परिवार को दुखी नहीं देखना चाहती हैं।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *